Tuesday, 22 August 2017

Apple Company के Founder Steve Jobs के आखिरी शब्द

ऐप्पल कंपनी के संस्थापक स्टीव जॉब्स को आप जानते ही होंगे, उनका जन्म 24 फरवरी 1955 को सैन फ्रांसिस्को में हूआ था। कैंसर से पीडित स्टीव जॉब्स का निधन 5 अक्टूबर 2011 को हुआ।  ऐप्पल कंपनी बनाने के बाद उसे सफल बनाने मे स्टीव जॉब्स का सबसे बडा योगदान है। आज ऐप्पल जिस मुकाम पर है वह स्टीव की कडी मेहनत की वजह से है।
Apple company ke Founder Steve Jobs ke aakhri sabd

लेकिन इतनी सफलता के बाद भी स्टीव आखिर लम्हो मे कुछ अजीब महसूस कर रहे थे उन्होंने निधन से पहले ऐक चिठ्ठी शेयर की थी उनहोंने लिखा था जिसे पढकर आप भी चोक जायेंगे।

उन्होंने कहा....
“एक टाइम था जब मैं बिजनेस जगत की ऊंचाईयों को छू चुका था। लोगों की नजर में मेरी जिंदगी सफलता का एक बड़ा नमूना बन चुकी थी। लेकिन आज खुद को बेहद बीमार और इस बिस्तर पर पड़ा हुआ देखकर मैं कुछ अजीब महसूस कर रहा हूं।

पूरी जिंदगी मैंने बहुत कड़ी मेहनत की, लेकिन खुद को खुश करने के लिए या खुद के लिए समय निकालना जरूरी नहीं समझा। जब मुझे कामयाबी मिली तो मुझे बेहद गर्व महसूस हुआ, लेकिन आज मौत के इतने करीब पहुंचकर वह सारी उपलब्धियां फीकी लग रही हैं।

आज इस अंधेरे में, इन मशीनों से घिरा हुआ हूं। मैं मृत्यु के देवता को अपने बेहद करीब महसूस कर सकता हूं।

आज मन में एक ही बात आ रही है कि इंसान को जब यह लगने लगे कि उसने अपने भविष्य के लिए पर्याप्त कमाई कर ली है, तो उसे अपने खुद के लिए समय निकाल लेना चाहिए। और पैसा कमाने की चाहत ना रखते हुए, खुद की खुशी के लिए जीना शुरू कर देना चाहिए।

अपनी कोई पुरानी चाहत पूरी करनी चाहिए। बचपन का कोई अधूरा शौक, जवानी की कोई ख्वाहिश या फिर कुछ भी ऐसा जो दिल को तसल्ली दे सके। किसी ऐसे के साथ वक्त बिताना चाहिए जिसे आप खुशी दे सकें और बदल में उससे भी वही हासिल कर सकें।

क्योंकि जो पैसा सारी जिंदगी मैंने कमाया उसे मैं साथ लेकर नहीं जा सकता। अगर मैं कुछ लेकर जा सकता हूं तो वे हैं यादें। ये यादें ही तो हमारी ‘अमीरी’ होती है, जिसके सहारे हम सुकून की मौत पा सकते हैं।

क्योंकि ये यादें और उनसे जुड़ा प्यार ही एकमात्र ऐसी चीज है जो मीलों की सफर तय करके आपके साथ जा सकती हैं। आप जहां चाहे इसे लेकर जा सकते हैं। जितनी ऊंचाई पर चाहें ये आपका साथ दे सकती हैं। क्योंकि इन पर केवल आपका हक़ है।

जीवन के इस मोड़ पर आकर मैं बहुत कुछ महसूस कर सकता हूं। जीवन में अगर कोई सबसे महंगी वस्तु है, तो वह शायद ‘डेथ बेड’ ही है। क्योंकि आप पैसा फेंककर किसी को अपनी गाड़ी का ड्राइवर बना सकते हैं। जितने मर्जी नौकर-चाकर अपनी सेवा के लिए लगा सकते हैं। लेकिन इस डेथ बेड़ पर आने के बाद कोई दिल से आपको प्यार करे, आपकी सेवा करे, यह चीज आप पैसे से नहीं खरीद सकते।

आज मैं यह कह सकता हूं कि हम जीवन के किसी भी मोड़ पर क्यों ना हों, उसे अंत तक खूबसूरत बनाने के लिए हमें लोगों का सहारा चाहिए। पैसा हमें सब कुछ नहीं दे सकता।

मेरी गुजारिश है आप सबसे कि अपने परिवार से प्यार करें, उनके साथ वक्त बिताएं, इस बेशकीमती खजाने को बर्बाद ना होने दें। खुद से भी प्यार करें”।
Nitesh kumar
Nitesh kumar

Hello Friends! My Self Nitesh Kumar, From India Gujarat. I Am Passionate Blogger. I Am Author Of SolutionSoul Blog. In This Blog I'll Give U Information About New Technology, Various Technical Tricks, Mobile And Computer Tricks, Knowledge And News Etc.

No comments:

Post a Comment